Poetry, Poetry (Hindi)

तुम अनमोल हो ..

ना, आज तारीफों के पुल नहीं कोई 
पर लफ़ज़ो  में शायाद फिर भी छुपे जस्बात है 
दुआ का सागर शाम ढलते भेजा है 
क्यूंकि शाम के बाद नया सवेरा खास है 
उम्मीद एक ऐसा जज़्बा है 
जो हर सांस मे साज़ भरता है 
वो उम्मीद उजागर हो फिर तरो ताज़ा 
ऐसा एक नन्हा पैगाम भेजा है 
मिलेगा तुम्हे वो सब जिसके तुम हाकदार हो 
ज़िन्दगी लेती है इम्तहान 
और तुम अभी एक उम्मीदवार हो 
तुम्हारी कीमत को तुम्हे ही आंकना है 
दुनिया बाद मे समझेगी 
मुश्किलें ये एक ऐसी गुत्थी है 
जो सिर्फ तुमसे सुलझेगी 
दिल जो पाक है तुम्हारा 
उसपे अभिमान क्यूँ न हो 
आंका नही तुमने खुद को भले ही 
पर दिल से गर पुछोगे  हमारे 
तो जानोगे कि तुम हिम्मत हो हमारी 
और ये के तुम अनमोल हो 
Standard
Poetry, Poetry (English)

A Story in head or a tale pen writes..

To cover your face

with a smile you do not own

or to put on a frown

at a place you do not belong

A story in head

or a tale pen writes

Is it a plan

Or a flow that wipes

the tear is true

but they are not to be shown

people want to see you laugh

none to hear you mourn

your problems are your own

solutions you have to seek

people have their version of truth

they do not know how you feel

Doesn’t make them bad

they may not know what to do

but the question remains

Do you know the real you ?

Things you say might sound dreamy

what matters is how it feels

You own your life, you have to live

But  that you do when your heart heals

The mind shall wander

Unless you find it peace

Go win your fear

and collect your heart piece  by piece.

 

 

 

 

Standard